December 3, 2022

कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला सतर्कता एवं मानीटरिंग समिति की बैठक संपन्न

कलेक्टर कृष्ण गोपाल तिवारी ने जिला सतर्कता एवं मानीटरिंग समिति की बैठक अनुसूचित जाति जन जाति के सदस्यों पर होने वाले अत्याचार के प्रकरणों को शीघ्रता से निपटाने के निर्देश दिये है। बैठक मे पुलिस अधीक्षक पी एस उइके, डिप्टी कलेक्टर श्रीमती इला तिवारी, मुख्य चित्किसा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा0 एम पी तिवारी, सहायक आयुक्त आजाक राजेश सिगरोरे, विष्णु भारती, आजाक थाना के प्रभारी के अलावा अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।
कलेक्टर श्री तिवारी ने अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज प्रकरणों की प्रकरण वार समीक्षा की। जिसमें प्रकरणों में विलंब होना पाया गया। इस पर कड़ा ऐतराज जताते हुए निर्देशित किया कि घटना घटित होने के 25 दिन के अंदर उन्हें दी जाने वाली सहायता सुलभ कराये। इस दौरान सहायक आयुक्त ने कलेक्टर को अवगत कराया कि सुशील कुमार द्विवेदी लेखापाल राहत शाखा प्रभारी 18 अगस्त से बिना सूचना के अनुपस्थित है जिसके कारण प्रकरणों के निराकरण विलंब हुआ है। कलेक्टर तिवारी ने इसे गंभीरता से लेते हुए लेखापाल सुशील कुमार द्विवेदी को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के साथ ही विभागीय जांच संस्थित करने के निर्देश दिये।

समिति की बैठक में उपस्थित होने वाले अशासकीय सदस्यों को यात्रा भत्ता देने के भी निर्देश कलेक्टर ने दिये। बैठक मे बताया गया कि 1 अप्रैल से 31 अगस्त तक अनुसूचित जन जाति के 6 प्रकरणों में पांच लाख 40 हजार तथा अनुसूचित जाति के तीन प्रकरणों में 6 लाख 20 हजार रूपये स्वीकृत किए गए है। इसी प्रकार विभिन्न थानों से अत्याचार निवारण के नौ प्रकरण प्राप्त हुए है, जिन पर तत्परता पूर्वक कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये।

कलेक्टर ने संकटापन्न राहत के तहत प्राप्त प्रकरणों को यथा समय निराकृत करने के साथ ही जिले मे संचालित 62 छात्रावासी छात्रों के स्वास्थ्य परीक्षण प्रत्येक माह कराने के निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिये। कलेक्टर ने कहा कि स्वास्थ्य परीक्षण उपरांत छात्रों की मेडिकल फाईल तैयार करे जिसमें संबंधित डाक्टर का नाम, पद एवं हस्ताक्षर अंकित रहे जिससे निरीक्षण के दौरान कोई भी अधिकारी छात्रों की हेल्थ पंजी देख सके। उन्होंने कहा है कि छात्रावास के अधीक्षक प्रत्येक माह छात्रों की हेल्थ रिपोर्ट प्रस्तुत करेगे जिससे यह देखा जा सके कि छात्रों के स्वास्थ्य में क्या सुधार परिलक्षित हुआ है।
कलेक्टर श्री तिवारी ने पुलिस अधीक्षक श्री पी एस उइके से कहा है कि अत्याचार के प्रकरणों में शीघ्रता लाने के लिए समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित करें । बैठक में सहायक आयुक्त आजाक श्री सिगरोरे ने अत्याचार निवारण अधिनियम के ंसबंध में अब तक कीगई कार्यवाहियों की जानकारी दी। इस मौके पर विष्णु भारती ने भी अपना सुझाव दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post घोटालेबाज सरपंचों पर नहीं दर्ज कराई एफआईआर
Next post गर्भधारण एवं प्रसव पूर्व निदान कार्यशाला सम्पन्न भारतीय संस्कृति में नारियां सदैव पूजी गई- कलेक्टर