October 2, 2022

कावड़ यात्रा के लिए चिन्हित किए गए सड़क मार्गो पर पुलिस की रहेगी लगातार निगरानी: एसपी वसीम अकरम

झज्जर: झज्जर पुलिस द्वारा कांवड़ लेकर चल रहे श्रद्धालुओं की सुरक्षा एव कावड़ यात्रा को सुचारू एवं सुरक्षित सम्पन्न कराने के मद्देनजर सुरक्षा के व्यापक प्रबन्ध किए गए हैं। नीलकंठ, हरिद्वार से कांवड़ लेकर चले श्रद्धालु को झज्जर जिला में बिना किसी बाधा के रास्ता उपलब्ध कराने तथा यातायात को सुचारू बनाये रखने के लिए पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। कावड़ यात्रियों के आराम व सुविधा के लिए बनाए गए प्रत्येक सेवा शिविर का पुलिस द्वारा लगातार निगाह रखते हुए निरीक्षण भी किया जाएगा। कांवड़ यात्रियों की सुरक्षित एवं निर्बाध यात्रा तथा यातायात व्यवस्था को दुरुस्त बनाये रखने के संबंध में पुलिस अधीक्षक श्री वसीम अकरम आईपीएस के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में झज्जर पुलिस द्वारा शांति एवं व्यवस्थाओ बनाए रखने के लिए पुख्ता प्रबंध किया गए हैं। कांवड़ियों की सुरक्षा एवं यात्रा को सुरक्षित संपन्न कराने के लिए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक रोहतक रेंज रोहतक श्रीमती ममता सिंह के आदेश अनुसार एसपी श्री वसीम अकरम द्वारा जिला के सभी पुलिस अधिकारियों, थाना प्रबंधकों व चौकी प्रभारियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।

झज्जर जिला में कांवड़ यात्रा को सुरक्षित एवं शांतिपूर्वक संपन्न कराने को लेकर एसपी श्री वसीम अकरम द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश किए गए हैं। उन्होंने कहा कि झज्जर जिला में जिन मार्गो पर कांवड़ लेकर श्रद्धालु गुजरेंगे उन सड़क मार्गों पर पुलिस द्वारा लगातार निगरानी एवं गश्त की जाएगी। प्रत्येक थाना प्रबंधक व चौकी प्रभारी अपने-2 इलाका में शांति एवं कानून व्यवस्था के साथ-साथ यातायात व्यवस्था को भी दुरुस्त बनाये रखने के लिए प्रत्येक गतिविधि पर कड़ी निगरानी रखेंगे। भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जहां भी जरूरत होगी कांवड़ियों को पैदल चलने के लिए अलग से सुरक्षित मार्ग उपलब्ध करवाने के लिए वैकल्पिक प्रबंध भी किए जाये। कांवड़ शिविर व पार्किंग मुख्य सड़क से दूर होने चाहिए ताकि किसी प्रकार से यातायात में कोई अवरोध उत्पन्न ना हो। कांवड़ शिविर सड़क के केवल बाईं तरफ लगने चाहिए। कांवड़ियों की सुरक्षा को लेकर पुलिस लगातार 24 घंटे तैनात रहेगी ताकि कोई भी असमाजिक अथवा शरारती तत्व कावड़ियों के वेष में किसी तरह से शांति भंग करने की कोशिश ना कर पाए।

एसपी वसीम अकरम ने यातायात सहित सभी थाना प्रबंधको व चौकी प्रभारियों को आदेश देते हुए कहा कि कावड़ियों की वेशभूषा में बदनियती से अव्यवस्था फैलाने की कोशिश करने वाले असमाजिक शरारती तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। यदि कोई मार्ग किसी भी कारण से अवरुद्ध हो जाता है तो कावड़ियों के लिए वैकल्पिक मार्ग की भी व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि किसी भी हालत में जिला में कावड़ यात्रा के दौरान अव्यवस्था की स्थिति उत्पन्न नहीं होने दी जाएगी। जिला में कावड़ यात्रा को हर हाल में सुचारु एवं सुरक्षित बनाये रखा जाएगा। झज्जर जिला में कांवड़ यात्रा को निर्बाध एवं शांतिपूर्वक संपन्न कराने को मध्येनजर रखते हुए स्थानीय पुलिस द्वारा अलग-अलग चिन्हित स्थानों पर विशेष सुरक्षा नाके लगाए जायेगें। उन्होंने कहा कि सुरक्षा की दृष्टि से जिन मार्गों पर कावड़ियों के ज्यादा संख्या में चलने की संभावना है उन मार्गो को भी चिन्हित करके विशेष निगरानी रखी जाएगी। झज्जर जिला में ऐसे 10 मार्ग चिन्हित किए गए हैं जिनका इस्तेमाल अधिकतर कावड़िए करते आए हैं। जो निम्न प्रकार से हैं :- 1 सापला से रेवाड़ी रोड वाया छारा, जोन्धी, झज्जर, सुबाना से कोसली।
2 झज्जर से रेवाड़ी वाया माछरौली, कुलाना।
3 रोहतक से बहु वाया डीघल, बेरी, छूछकवास, सासरोली।
4 रोहतक से झज्जर वाया डीघल, महराना चौक दुजाना।
5 सोहटी बॉर्डर से बहादुरगढ़ वाया कानौन्दा, कुलासी।
6 रोहतक से बेरी वाया रिटोली कबूलपुर।
7 सापला से बेरी वाया बहराना, डीघल।
8 बहादुरगढ़ से झज्जर वाया दुल्हेड़ा, कबलाना।
9 सोनीपत से केएमपी होते हुए जिला गुरुग्राम।
10 बहादुरगढ़ से बादली वाया गुभाना माजरी आदि प्रमुख है।

उन्होंने कांवड़ यात्रा को सुरक्षित संपन्न कराने के संबंध में जिला के सभी पुलिस अधिकारियों, थाना प्रबंधकों व चौकी प्रभारियों को जरूरी दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। जो निम्न प्रकार से हैं:– जिन सड़क मार्गो से कांवड़ लेकर श्रद्धालु गुजरेंगे उन रास्तों पर पुलिस द्वारा निरंतर गश्त करते हुए प्रत्येक गतिविधि पर निगाह रखी जाए। कांवड़ यात्रियों के रास्तों पर पीसीआर व राइडर्स की गश्त लगातार 24 घंटे तैनात रहेगी। महिला कावड़ यात्रियों की सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए पर्याप्त संख्या में महिला पुलिस कर्मचारियों को भी तैनात किया जाए। डाक कावड़ियों के वाहनों पर लगे डीजे को तेज ध्वनि से बजाने से रोका जाए। किसी भी कावड़ यात्री को किसी भी तरह का नाजायज हथियार नही रखने दिया जाएगा। जिस मार्ग पर कावड़ यात्री चल रहे होंगे, उस पर गति रोधक लगाकर वाहनों को धीमी गति से चलाया जाए। सड़क पर जहां भी कावड़ियों के क्रोसिंग पॉइंट हैं उन स्थानों को चिन्हित करके रस्से व कोण लगवाए जाए। कांवड़ सेवा शिविर में कहीं भी बिजली की कोई भी तार का जोड़ खुला या नंगा नहीं होना चाहिए। ताकि कोई दुर्घटना का कारण न बने। किसी भी शिविर में सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल न किया जाए। कांवड़ सेवा शिविर के लिए परमिशन अत्यंत आवश्यक है। कावड़ सेवा शिविर मुख्य सड़क से कम से कम 50 फुट की निर्धारित दूरी पर लगाया जाए। जहां तक हो सके शिविरों में सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था करवाई जाए। शिविरों में संचालकों द्वारा एक रजिस्टर रखा जाए। जिसमें शिविर में आने वाले प्रत्येक कावड़ यात्री की जानकारी का इंद्राज किया जाए। शिविर व आसपास के एरिया में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए। ट्रक यूनियन के प्रधानों, ट्रांसपोर्टरों के मालिकों, ऑटो, जीप व कैब चालको से संपर्क करके यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी वाहन चालक कावड़ यात्रा के दौरान नशा करके वाहन न चलाए। अपने वाहन को ठीक दिशा में व धीमी गति से चलाएं। वहीं यातायात पुलिस के जवानों द्वारा एल्कोसेंसर मीटर से वाहनों की लगातार चैकिंग भी की जाए। किसी भी तरह की विपरीत परिस्थितियों से निपटने के लिए दंगा विरोधी उपकरणों व आवश्यक साजो सामान सहित पुलिस बल को रिजर्व रखा जाए। प्रत्येक थाना प्रबंधक अपने एरिया में लगे सभी कावड़ सेवा शिविर संचालकों से लगातार संपर्क रखेंगे। किसी प्रकार की त्वरित पुलिस सहायता के लिए डायल 112 पर संपर्क किया जाए।

ShareShare on Google+0Pin on Pinterest0Share on LinkedIn0Share on Reddit0Share on TumblrTweet about this on Twitter0Share on Facebook0Print this pageEmail this to someone

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post चोरी की मोटरसाइकिल के साथ दो नाबालिग सहित तीन आरोपी काबु
Next post कांवड़ लाने के लिए हरिद्वार जाने से पहले श्रद्धालुओं को कराना होगा पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन