December 9, 2022

ग्राम संगठन आर्थिक एवं सामाजिक समतामूलक समाज के निर्माण में सहायक सावित होगा-डॉ.भार्गव

शहडोल 14 जुलाई 2014. समाज में बदलाव लाने की क्षमता प्रत्येक व्यक्ति में है, बषर्ते शोषण के खिलाफ आवाज उठाने की चेतना हम गरीबों में पैदा कर सकें। आर्थिक एवं सामाजिक रूपसे पिछड़े वर्ग के लिए स्व सहायता समूह एवं ग्राम संगठन एक ऐसा मंच है जो गरीबी एवं शोषण के खिलाफ आवाज उठाने के लिए गरीबों को ताकत देता है। उक्त उद्गार कलेक्टर डॉ. अषोक कुमार भार्गव ने म.प्र.राज्य ग्रामीण आजीविका मिषन द्वारा 8 एवं 9 जुलाई को आयोजित ग्राम संगठन निर्माण एवं प्रबंधन विषय पर आयोजित दो दिवसीय प्रषिक्षण कार्यक्रम के समापन सत्र में व्यक्त किये। संभाग स्तरीय इस प्रषिक्षण कार्यक्रम में शहडोल, अनूपपुर एवं मंडला जिले के आजीविका मिषन के स्टॉफ के सदस्य उपस्थित थे।
इस अवसर पर कलेक्टर डा. भार्गव ने कहा कि समाज के लिए बेहतर काम करने की असीम संभावनाएं हैं। संगठन में निहित शक्ति से हमें समाज के गरीब वर्ग को परिचित कराना होगा। आजीविका मिषन के माध्यम से स्व सहायता समूह एवं संगठन की अवधारणा को ग्राम स्तर पर जीवंत करने के प्रयास निःसंदेह प्रषंसनीय हैं और यह कहा जा सकता है कि हम एक बेहतर कल की ओर कदम बढ़ा चुके हैं।
म.प्र.राज्य ग्रामीण आजीविका मिषन भोपाल के स्टेट एंकर श्री जी. प्रकाष राव, ने बताया कि आंध्र प्रदेष में स्व सहायता समूहों के माध्यम से गरीबी उन्मूलन पर किये गये प्रषंसनीय प्रयासों को देखते हुए मध्यप्रदेष शासन एवं आंध्र प्रदेष की संस्था सर्प सोसायटी फार एलीमिनेषन आफ पावर्टी के साथ किये गये अनुबंध के तहत् सात आजीविका मिषन जिलों में रिसोर्स ब्लाक रणनीति पर कार्य किया जा रहा है, जहां पर आंध्र प्रदेष के सफल प्रयोगों एवं अनुभवों को क्रियांवित किया जा रहा है, प्रत्येक जिले के रिसोर्स विकासखंड में समुदाय संस्था विकास एवं अन्य क्षेत्रों में किये गये कार्यों केा अन्य विकासखंडों में लागू किया जायेगा।
राज्य परियोजना प्रबंधक एवं जिला नोडल अधिकारी श्री धीरेंद्र सिंह ने कहा कि आंध्र प्रदेष में स्व सहायता समूहों के माध्यम से गरीबों की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति में जो परिवर्तन हुआ है, वह चेतना एवं सामाजिक बदलाव की भावना हमें अपने समूहों के माध्यम से गरीबों में पैदा करनी होगी।
जिला परियोजना प्रबंधक श्री दिनेष शर्मा ने ग्राम संगठन एवं निर्माण विषय पर आयोजित इस प्रषिक्षण कार्यक्रम की अवधारणा से परिचित कराते हुए बताया कि इन दो दिनों में संभाग के तीनों जिलों के प्रतिभागी ग्राम संगठन की बारीकियों से परिचित होकर गरीबी के खिलाफ संघर्ष में स्व सहायता समूहों को दिषा प्रदान करेंगे। इस दो दिवसीय प्रषिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमति कमलेष नट द्वारा किया गया तथा आजीविका मिषन द्वारा महिलाओं के स्व सहायता समूह गठन उपरांत उनके ग्राम संगठन निर्माण की प्रक्रिया को गरीबों के लिए हितकारी बताया।
प्रषिक्षण कार्यक्रम में म.प्र.रा.ग्रामीण आजीविका मिषन भोपाल से राज्य परियोजना प्रबंधक श्री धीरेंद्र सिंह, श्री शैेलेंद्र सिंह भदौरिया तथा स्टेट एंकर पर्सन श्री जी प्रकाष राव तथा शहडोल, अनूपपुर एवं मंडला जिले के रिसोर्स ब्लाक का समस्त स्टॉफ उपस्थित रहा। कार्यक्रम का समन्वय जिला प्रबंधक, कौषल उन्नयन एवं रोजगार एवं रिसोर्स ब्लाक जयसिंहनगर के प्रभारी श्री शषांक प्रताप सिह ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post नगरपालिका अध्यक्ष को बताई समस्या
Next post – नवीन इव्हीएम मषीनों की पंचायत उप निर्वाचन हेतु की गई फर्स्ट लेवल चेकिंग