PHONE : +91-011-23626019
(M) 09811186005
Email : crimehilore@gmail.com ,
editor.crimehilore@gmail.com


Breaking News
जन आज़ादी 75 एक-वर्षीय अभियान का देश भर में जोरदार उद्घाटन: हजारों-हजार लोगों ने लिया जन क्रांति और लोकतंत्र – रक्षा का संकल्प

जन आज़ादी 75 एक-वर्षीय अभियान का देश भर में जोरदार उद्घाटन: हजारों-हजार लोगों ने लिया जन क्रांति और लोकतंत्र – रक्षा का संकल्प

देश भर के कार्यकर्ता और नागरिकों ने संवैधानिक मूल्यों की रक्षा करने, लोकतंत्र को का मजबूत करने और फासीवादी ताकतों को हराने का संकल्प लिया!

संसद को चलने नहीं देना, किसान आंदोलन की अवहेलना करना और मानवाधिकार रक्षकों को गिरफ्तार करके,सरकार का ‘अमृत महोत्सव’ जुमला है !

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर और जयपाल सिंह मुंडा जैसे दिग्गजों द्वारा लिखे गए संविधान में विश्वास रखते हुए, किसी भी कीमत पर इसकी रक्षा करने और आज देश पर शासन करने वाले फासीवादी और विभाजनकारी तत्वों को हराने का संकल्प लेते हुए, देश भर में हजारों लोगजन आज़ादी 75 के बैनर तले राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम मे शामिल हुए| उत्तर प्रदेश, बिहार, केरल, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, तमिलनाडु, ओडिशा, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, झारखंड, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में 250 से अधिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। एनएपीएम मानता है कि, 9 अगस्त, जो भारत छोड़ो आंदोलन और आदिवासी अधिकार दिवस सहित कई कारणों से महत्वपूर्ण है, जनविरोधी और तानाशाही ताकतों के खिलाफ प्रतिरोध के इतिहास में एक और अध्याय को चिह्नित करेगा।

आज देश के कई हिस्सों में आदिवासी समुदायों की ओर से महत्वपूर्ण आयोजन हुए। केरल में, नागरिकों और जन समूहों द्वारा 75 स्थानों पर सत्याग्रह और सड़क सभाओं का आयोजन किया गया। उत्तर प्रदेश में, जहां अगले साल चुनाव होना हैं, 60 से अधिक स्थानों और कई जिलों के किसानों, खेत मजदूरों, महिलाओं और युवाओं द्वारा जनसभाओं, शपथ ग्रहण, परचा वितरण और विरोध कार्यों में भारी भागीदारी देखी गई। मध्य प्रदेश और ओडिशा में कई जिलों में कार्यक्रम आयोजित किए गए आर पर्यावरण – विस्थापन के सवाल उठाए गए| माहुल और आवास अधिकार समूहों के अलावा, पूरे महाराष्ट्र और मुंबई में भी विभिन्न संगठनों और युवाओं द्वारा सक्रिय भागीदारी निभाई गई |

तेलंगाना में शहरी बस्तीवासियों और दलित खेत मजदूरों ने विरोध प्रदर्शन किया। आदिवासी किसान और युवा उत्तरी आंध्र के पाडेरू में एकत्रित हुए। बिहार के विभिन्न हिस्सों में, सुपौल, अररिया, खगड़िया और पटना में सार्वजनिक कार्यों का आयोजन किया गया, जहां श्रमिकों, ऑटो यूनियन के सदस्यों, समुदाय के बुजुर्गों, बस्ती निवासियों और युवा कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। दिल्ली में किसान आंदोलन और एनएपीएम तम्बू के साथ एकजुटता व्यक्त की गई। उत्तर और पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित किए गए जिसमें मछुआरों ने भी भाग लिया। छत्तीसगढ़ के भिलाई में औद्योगिक और सफाई कर्मचारियों ने विरोध प्रदर्शन किया| सभी स्थानों पर सभी लिंग और समुदाय के व्यक्तियों ने भाग लिया।

आज हर जगह लोगो ने देश के प्रमुख मुद्दो को उठाया और साथ ही इस बात पर भी मन्थन हुआ कि आजा्दी के 75 साल पूरे होने पर भी स्वतन्त्र्ता और अधिकारो के मामले मे कितना कुछ हासिल करना है। कार्यकर्ताओं ने मोदी सरकार के दावों को चुनौती दी और इतिहास के विरूपण और संवैधानिक मूल्यों की पूर्ण अस्वीकृति, राजनीतिक असंतोष का अपराधीकरण, राज्य के उत्पीड़न और सार्वजनिक क्षेत्र के विनाश और खाद्य सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य और आजीविका जैसे सभी आवश्यक अधिकारों के विनाश पर शोक व्यक्त किया। कई जगहों पर सामूहिक जन शपथ ली गई (संलग्न)।

एनएपीएम ने सरकार की किसान विरोधी और श्रमिक नीतियों का विरोध करने वाले देश भर में कार्यक्रमों के लिए किसान समूहों और ट्रेड यूनियनों द्वारा दिए गए आह्वान पर भी एकजुटता व्यक्त की। जन आजादी अभियान को अखिल भारतीय शिक्षा अधिकार मंच (अभाशियम) से समर्थन मिला, जिसने अपने सदस्यों से देश भर के कार्यक्रमों में शामिल होने का आग्रह किया। कई जगहों पर एनएपीएम के घटकों ने यू.ए.पी.ए, दमनकारी कानूनों के खिलाफ, ‘जस्टिस फॉर स्टेन स्वामी’ और सभी राजनीतिक कैदियों की रिहाई के लिए संयुक्त आह्वान में भी भाग लिया। स्थानीय स्तर पर विभिन्न राज्यों द्वारा आयोजित कुछ प्रेस कॉन्फ्रेंस, ऑनलाइन कार्यक्रम और एकजुटता की कार्रवाई भी शामिल थी।

हमारे आदिवासी संघर्षों, स्वतंत्रता आंदोलन और हाल के किसान आंदोलन के शहीदों को देश भर में विभिन्न स्थानों पर याद किया गया। मुंबई के अगस्त क्रांति मैदान के ऐतिहासिक स्थल पर आज एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया| यह वही स्थान है जहां से महात्मा गांधी ने नारा दिया था – अंग्रेज भारत छोडो! लाखों आम भारतीयों ने उस आह्वान को प्रतिसाद दिया। इस आंदोलन ने अंततः हमारी राजनीतिक स्वतंत्रता का मार्ग प्रशस्त किया। फासीवादियों और पून्जिवादियो के खिलाफ भी आज इसी तरह के आह्वान की जरूरत है।

इस अवसर पर वरिष्ट स्वतंत्रता सेनानी डॉ. जी.जी. पारिख ने कहा कि, “हमारा देश हर मोर्चे पर एक गहरे संकट का सामना कर रहा है, क्योंकि वही ताकतें जो हमारे स्वतंत्रता संग्राम के किनारे खड़ी थीं, आज हम पर शासन कर रही हैं। ये फासीवादी सांप्रदायिक ताकतें जनता को बांटती हैं और जनता का ध्रुवीकरण करती है | सरकार हमारी राष्ट्रीय संपत्ति को बेच रही है और उसका निजीकरण कर रही है| जनता के आंदोलन को एक लंबे समय तक चलने वाले लोकतांत्रिक संघर्ष के लिए तैयार रहना चाहिए, एक बहुत ही दमनकारी शासन के खिलाफ सही ढंग से सच्ची स्वतंत्रता के रास्ते पर होना चाहिए। हमें जेल जाने के लिए तैयार रहना चाहिए, हमारे देश को किसी भी बलिदान की आवश्यकता है।” केरल में भी, स्वतंत्रता सेनानी वासु ने सार्वजनिक कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

मेधा पाटकर, प्रफुल्ल समांतरा, डॉ सुनीलम, ऋचा सिंह, कलादास डेहरिया, कुसुमम जोसेफ, सैयद बिलाल, तापसी डोलुई, जगदीश खैरलिया, वेंकटय्या, डॉली, राजकुमार सिन्हा, रामाराव दोराऔर हजारों अन्य लोगों सहित देश भर से एनएपीएम से जुड़े कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। अलग-अलग आयोजनों में उन सभी ने यह भावना व्यक्त की कि हमारा देश, हमारा समाज, हमारा संविधान खतरे में है। हम सभी उस आंदोलन का हिस्सा हैं जो हमारे स्वतंत्रता संग्राम के मूल्यों में निहित है| जन आंदोलनों ने हमारे देश के उत्पीड़ित और शोषित वर्गों के अधिकारों के लिए खड़े होने और उनकी रक्षा करने में योगदान दिया है। आज, जब हम इस फासीवादी, मनुवादी, सांप्रदायिक और पितृसत्तात्मक हमले का सामना कर रहे हैं, तो समय आ गया है कि हमारे देश की एकता के लिए प्रतिबद्ध सभी लोग एक साथ आएं और लोगों और अपने संविधान की रक्षा करें। एनएपीएम का साल भर चलने वाला अभियान उसी दिशा में एक और प्रयास है।

उन्होंने प्रतिध्वनित किया कि किसानों और श्रमिकों के आंदोलनों ने मोदी शासन और उसके कॉर्पोरेट समर्थकों का प्रभावी प्रतिरोध करने में लोगों की ताकत और दृढ़ संकल्प दिखाया है। इन जन आंदोलनों के साथ-साथ पिछले साल के श्रमिक मुस्लिम महिलाओं द्वारा साहसपूर्वक सन्चलित किये गये सीएए-एनआरसी आंदोलन, छात्र विद्रोह आदि सभी हमारे स्वतंत्रता संग्राम के मूल्यों को आगे बढ़ते हैं। ये संघर्ष ही हमारे देश की आम जनता और उत्पीड़ित लोगों के हित की रक्षा करने वाली ढाल के रूप में खड़े हैं। नफरत फैलाने वाला मोदी शासन हमारे देश को उच्च मुद्रास्फीति और बढ़ती बेरोजगारी के साथ राजनीतिक और आर्थिक विनाश के रास्ते पर ले गया है। इन ताकतों के खिलाफ हमारे स्वतंत्रता संग्राम के अगले चरण को छेड़ने का समय आ गया है।

जन आज़ादी – “आज़ादी की राह पर ” दिलों को जोड़ने, आर्थिक असमानता का विरोध करने, आवश्यक सेवाएं, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार पाने, गरीबी से लड़ने और एक सुंदर समाज के सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने का अभियान है। हमारा सामूहिक संकल्प सत्ताधारी दल की नफरत की राजनीति को हराकर उन्हें धरातल पर चुनौती देगा। एनएपीएम, इसके घटक सदस्यों और देश भर में सहयोगियों द्वारा अगले वर्ष तक कार्यक्रम, गतिविधियां, विरोध प्रदर्शन, लेखन, जनसम्पर्क प्रयास आदि पूरे वर्ष आयोजित किए जाएंगे। यह अभियान हमे, स्वतंत्रता संग्राम के मूल्यों और 75 वर्षों के लोगों के संघर्षों की असली पूंजी को इस देश के कोने-कोने तक ले जाने और सरकार की दुष्प्रचार का मुकाबला करने का अवसर देता है |

किसी भी अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें: napmindia@gmail.com and janazadi75@gmail.com

ShareShare on Google+0Pin on Pinterest0Share on LinkedIn0Share on Reddit0Share on TumblrTweet about this on Twitter0Share on Facebook0Print this pageEmail this to someone

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*


You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>