PHONE : +91-011-23626019
(M) 09811186005
Email : crimehilore@gmail.com ,
editor.crimehilore@gmail.com


Breaking News
डॉ. हर्षवर्धन ने संडे संवाद-5 के दौरान अपने क्षेत्र के लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए अपना व्‍यक्तिगत सेल नंबर साझा किया

डॉ. हर्षवर्धन ने संडे संवाद-5 के दौरान अपने क्षेत्र के लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए अपना व्‍यक्तिगत सेल नंबर साझा किया

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने संडे संवाद के पांचवें एपिसोड में अपने सोशल मीडिया इंटरेक्टर्स के एक समूह द्वारा पूछे गए सवालों के उत्‍तर दिए। कोविड ​​के संबंध में अफवाहों को दूर करने और प्रचलित गलतफहमी को दूर करने के लिए, स्वास्थ्य मंत्री ने कोविड ​​के खिलाफ लड़ाई में आयुर्वेद की भूमिका, पुन: संक्रमण पर आईसीएमआर के आगामी अध्ययन, टीकाकरण के लिए चयन मानदंड पर विस्तृत जानकारी दी। दिल्ली के चांदनी चौक क्षेत्र में सामने आने वाली विभिन्न कठिनाइयों के बारे में जानने के लिए, उन्होंने एक प्रतिक्रिया के रूप में सार्वजनिक मंच पर अपना संपर्क संबंधी विवरण साझा किया और आश्वासन दिया कि उनके निर्वाचन क्षेत्र में लोगों के सामने आने वाली सभी समस्‍याओं को प्राथमिकता के आधार पर हल किया जाएगा।

लोगों को अधिक भीड़-भाड़ से दूर रहने और सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का सावधानी से पालन करने की चेतावनी देते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों को मेलों और पंडालों तक बाहर जाने के बजाय, अपने प्रियजनों के साथ घर पर आने वाले त्योहारों को मनाने का अनुरोध किया। लोगों को बताया कोविड के खिलाफ लड़ना सबसे महत्वपूर्ण धर्म है, उन्होंने समझाया कि देश के स्वास्थ्य मंत्री के रूप में उनका धर्म वायरस के प्रभाव को कम करना और किसी भी कीमत पर मौतों को रोकना है। “भगवत गीता योद्धाओं को युद्ध के लिए माफी देती है। इसलिए, अपने विश्वास या अपने धर्म को साबित करने के लिए बड़ी संख्या में एकत्रित होने की आवश्यकता नहीं है। यदि हम ऐसा करते हैं, तो हम बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं। भगवान कृष्ण कहते हैं कि अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें। हमारा लक्ष्य इस वायरस को खत्म करना और मानवता को बचाना है। यही हमारा धर्म है। यही पूरी दुनिया का धर्म है।”

उन्होंने कहा कि “असाधारण परिस्थितियों को असाधारण प्रत्‍युत्‍तर मिलना चाहिए। कोई भी धर्म या ईश्वर यह नहीं कहता है कि आपको आडम्बरपूर्ण तरीके से जश्न मनाना है अथवा प्रार्थना करने के लिए आपको पंडालों और मंदिरों व मस्जिदों तक जाना है। उन्होंने नागरिकों से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के स्पष्ट आह्वान में शामिल होने के लिए कहा और दो महीने (सर्दियों के मौसम सहित) के दौरान बड़े पैमाने पर देशव्यापी जागरूकता अभियान और “जन आंदोलन” में शामिल होने का आह्वान किया ताकि महामारी न फैले। डॉ. हर्षवर्धन ने सर्दियों के दौरान नोवेल कोरोनोवायरस के संक्रमण में वृद्धि की संभावना बताई, क्योंकि यह एक श्वसन वायरस है और श्वसन वायरस के संक्रमण को ठंड के मौसम में बढ़ने के लिए जाना जाता है। उन्होंने कहा, “ये वायरस ठंड के मौसम और कम आर्द्रता की स्थिति में बेहतर पनपने के लिए जाने जाते हैं। इसे ध्‍यान में रखते हुए, यह मानना ​​गलत नहीं होगा कि सर्दियों के मौसम में भारतीय परिप्रेक्ष्‍य में नोवेल कोरोनवायरस के संक्रमण की बढ़ी हुई दरें भी देखी जा सकती हैं”। उन्होंने खासकर जब सार्वजनिक स्थानों पर मास्क/फेस कवर पहनने, नियमित रूप से हाथ धोने और श्वसन के तौर-तरीके बनाए रखने जैसे कि कोविड के विरुद्ध उचित व्यवहारों का पालन करने के लिए कहा, क्‍योंकि हमें बीमारियों के फैलने से रोकने में मदद मिलती है।

डॉ. हर्षवर्धन ने निकट भविष्य में फेलूदा टेस्ट के शुरू होने संभावना की खुशखबरी भी साझा की। इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी) में ट्रायल के दौरान 2000 से अधिक रोगियों में परीक्षण के आधार पर और निजी प्रयोगशालाओं में परीक्षण के आधार पर, परीक्षण में 96 प्रतिशत संवेदनशीलता और 98 प्रतिशत विशिष्टता देखी गई। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर की तुलनात्मक रूप से आरटी-पीसीआर किट की कम से कम 95 प्रतिशत संवेदनशीलता और कम से कम 99 प्रतिशत विशिष्टता के आईसीएमआर के वर्तमान मानदंड की तुलना करें। उन्होंने कहा कि एसआरएस-सीओवी-2 निदान के लिए फेलूदा पेपर स्ट्रिप टेस्ट को सीएसआईआर-आईजीआईबी द्वारा विकसित किया गया है और इसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया द्वारा एक वाणिज्यिक लॉन्च के लिए अनुमोदित किया गया है। किट को पहले से ही परमाणु ऊर्जा विभाग के जैव विज्ञान केंद्र, बैंगलोर द्वारा मान्य किया गया है। उन्होंने कहा, ”हालांकि मैं इसकी उपलब्धता के बारे में सटीक तारीख नहीं बता सकता, किंतु हमें अगले कुछ हफ्तों के भीतर इस परीक्षण की उम्मीद करनी चाहिए।”

इस मुद्दे पर कि कैसे सरकार पूरी आबादी में लक्षित समूहों को प्राथमिकता देकर कोविड-19 टीका लगाने की योजना बना रही है, उन्होंने स्पष्ट किया कि यह अनुमान है कि कोविड-19 टीकों की आपूर्ति शुरुआत में सीमित मात्रा में होगी। उन्होंने कहा, “भारत जैसे विशाल देश में, कोविड मामलों के बीच मृत्यु दर, विभिन्न जनसंख्या समूहों के बीच जोखिम, और कई अन्य लोगों के आधार पर टीका वितरण को प्राथमिकता देना महत्वपूर्ण है।” उन्होंने यह भी कहा कि भारत कई विभिन्न प्रकार के टीकों की उपलब्धता की ओर ध्‍यान दे रहा है, जिनमें से कुछ एक विशेष आयु वर्ग के लिए उपयुक्त हो सकते हैं, जबकि अन्य नहीं हो सकते हैं।

यह दोहराते हुए कि योजना का सबसे महत्वपूर्ण घटक कोल्ड चेन और अन्य लॉजिस्टिक्स हैं, जिन्हें अंतिम समय पर भी वैक्सीन वितरण में कोई गड़बड़ नहीं होने के लिए उचित रूप से योजनाबद्ध करने की आवश्यकता है, डॉ. हर्षवर्धन ने समुदाय निर्माण के लिए आवश्यक व्यापक पैमाने पर आवश्यकता, टीकाकरण में संकोच के कारणों को समझने और उन्हें उचित रूप से हल करने के लिए संवेदीकरण गतिविधियां पर प्रकाश डाला। आर्थिक कारणों से कोविड-19 वैक्सीन के लिए युवा और कामकाजी वर्ग को प्राथमिकता देने वाली सरकार की अफवाहों को स्पष्ट रूप से नकारते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, “समूहों का प्राथमिकताकरण कोविड-19 वैक्सीन दो प्रमुख विचारों पर आधारित होगा: पेशागत खतरा और संक्रमण के जोखिम और गंभीर बीमारी के विकास का खतरा और मृत्यु दर में वृद्धि।”

खुद को एक चिकित्‍सक बताते हुए, उन्होंने एक प्रश्‍नकर्ता को समझाया कि पहले चरण का परीक्षण मुख्य रूप से उत्पाद की सुरक्षा स्थापित करने के लिए किया जाता है; द्वितीय चरण का परीक्षण एक प्राथमिक समापन बिंदु के रूप में और द्वितीयक समापन बिंदु के रूप में प्रतिरक्षा को मापता है; तीसरे चरण के नैदानिक ​​परीक्षणों में, सुरक्षा और इम्युनोजेनेसिटी दोनों को माध्यमिक समापन बिंदुओं के रूप में मापा जाता है; एक नैदानिक ​​परीक्षण के इस चरण के लिए प्रभावकारिता प्राथमिक समापन बिंदु है।

भारत में कोविड टीकों के आपातकालीन उपयोग के अधिकार के मुद्दे पर, डॉ. हषवर्धन ने कहा कि वर्तमान में इस मुद्दे पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। उन्होंने कहा, “रोगी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आपातकालीन उपयोग का अधिकार टीका के अनुमोदन के लिए पर्याप्त सुरक्षा और प्रभावकारिता डेटा की आवश्यकता है। आगे की कार्रवाई, प्राप्त डेटा पर निर्भर करेगी”।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में भारत में कोविड-19 टीके 2 खुराक वाले और 3 खुराक वाले टीके हैं। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक द्वारा वैक्सीन के लिए 2 खुराक की आवश्यकता होती है, जबकि कैडिला हेल्थकेयर वैक्सीन के लिए 3 खुराक की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि प्रीक्लिनिकल चरणों में अन्य टीकों के लिए खुराक का परीक्षण किया जा रहा है।

अन्‍य कोविड वैक्सीन को इसके रूप में शामिल करने की आवश्यकता के बारे में, उन्होंने कहा, “भारत की बड़ी जनसंख्‍या के आकार को ध्यान में रखते हुए, एक वैक्सीन या वैक्सीन निर्माता पूरे देश को टीका लगाने की आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम नहीं होगा। इसलिए, हम भारतीय जनसंख्‍या के लिए उनकी उपलब्धता के अनुसार देश में कई कोविड-19 टीकों को प्रस्‍तुत करने की व्यवहार्यता का आकलन करने के लिए तैयार हैं।” महामारी के दौरान सार्वजनिक-निजी भागीदारी पर अपने विचार साझा करते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि वर्तमान स्थिति भारतीय जनता को अधिकतम टीकाकरण कवरेज सुनिश्चित करने के लिए कई टीका साझेदारों की मांग करती है और इसे निश्चित कंपनी से एक ही टीके के उपयोग को नकारात्मक रूप से नहीं देखा जाना चाहिए।

डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों से अनुरोध किया कि वे इसकी सत्यता की जांच किए बिना स्वास्थ्य और सुरक्षा से संबंधित किसी भी सामग्री को साझा न करें। उन्होंने कहा कि जैसा कि हम नोवेल कोरोनोवायरस के बारे में अधिक सीखते हैं और अधिक वैक्सीन विकल्‍प अपने चरण-2 और चरण-3 परीक्षणों को शुरू करते हैं, सोशल मीडिया पर बहुत सारे फर्जी और गलत खबरें होती हैं, जो निहित स्वार्थ वाले लोगों द्वारा एक अपराध है। उन्होंने बताया किया कि केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत प्रेस इंफोर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) में कोविड-19 फैक्ट चेक यूनिट नियमित रूप से फर्जी खबरों के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को स्कैन कर रही है और अपने पाठकों से इस तरह की फर्जी खबरों की रिपोर्ट पीआईबी की तथ्‍य जांच इकाई से करने का अनुरोध किया।

दोबारा संक्रमित होने वाले मामलों में, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि हालांकि विभिन्न राज्यों में लोगों के दोबारा संक्रमित होने की छिटपुट ख़बरें हैं, आईसीएमआर डेटाबेस के सावधानीपूर्वक विश्लेषण से पता चलता है कि इनमें से कई मामले वास्तव में पुन: संक्रमण के रूप में गलत रूप में वर्गीकृत किए गए हैं। उन्होंने कहा कि वास्तविक पुन: संक्रमण से मिसलेबेल्ड रीइंफेक्शन को अलग करना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, “वास्तविक संक्रमण का मतलब होगा कि एक पूरी तरह से ठीक हो चुके व्यक्ति को उसके शरीर में ताजा रूप से पेश किए गए वायरस से संक्रमित होना। आईसीएमआर पुन: संक्रमित मामलों के सही तथ्‍य को समझने के लिए एक अध्ययन शुरू कर रहा है। परिणाम कुछ हफ़्ते में साझा किए जाएंगे”।

महामारी में डॉक्टरों की मृत्‍यु पर व्यक्तिगत रूप से दुःख व्यक्त करते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के बीच कोविड-19 संक्रमण की घटनाओं को रोकने के लिए उठाए गए विस्तृत कदमों के बारे में बताया। उन्‍होंने कहा कि पीपीवी किटों, एन-95 मास्क और एचसीक्‍यू को कोविड मामलों का प्रबंधन करने वाले स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के संरक्षण और प्रोफिलैक्सिस के संदर्भ में राज्यों का पूरी तरह से समर्थन किया जाता है। दिल्ली स्थित एम्स नियमित रूप से स्टेट लेवल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के साथ वेबिनार की एक श्रृंखला आयोजित करता है, जहां संक्रमण, रोकथाम और नियंत्रण संबंधी दिशा-निर्देशों का और अधिक प्रचार होता है। प्रशिक्षण मॉड्यूल स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ-साथ आईजीओटी– दीक्षा मंच पर संक्रमण, रोकथाम और नियंत्रण के बारे में विवरण उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्वास्थ्य सुविधाओं और क्षेत्र में गैर-कोविड ​​क्षेत्रों में काम करने वाले स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों के तर्कसंगत उपयोग पर दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री ने यह भी बताया कि वह सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों और अन्य स्वास्थ्य अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से बात करते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हमारे कोरोना योद्धाओं की अच्छी देखभाल हो।

आइसोलेशन वाले लोगों की चिकित्सा के बारे में पूछे गए प्रश्‍न का जवाब देते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने भारत में टेलीमेडिसिन सेवाओं की स्वीकृति में तेज वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया, जिसने न केवल सरकार को महामारी के दौरान रोगियों की सही देखभाल में सक्षम बनाया है, बल्कि इससे उन्हें खतरनाक वायरस के संचरण को रोकने में भी मदद मिली है। इस नई और उत्साहजनक प्रगति पर चर्चा करते हुए, उन्होंने कहा, “ई-संजीवनी में विभिन्न राज्य सरकारों के स्वास्थ्य विभागों के 12,000 से अधिक चिकित्सक हैं और देश के 26 राज्यों में 510 जिलों के लोगों द्वारा अब तक उनकी सेवाओं की मांग की गई है। इसके जरिए पिछले लगभग 3 महीने में प्रथम 1 लाख परामर्श दिए गए और 3 सप्ताह के भीतर अंतिम एक लाख परामर्श दिए गए, जो एक बड़ी उपलब्धि है।

संडे संवाद के दौरान, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि पहले चरण में भारत सरकार ने कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए राज्यों और संघ शासित प्रदेशों को 3000 करोड़ रुपये जारी किए। उन्होंने कहा कि तीन राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को छोड़कर, सभी ने दिए गए अनुदान का पूर्ण उपयोग किया है: महाराष्ट्र ने केवल 42.5 प्रतिशत, इसके बाद चंडीगढ़ ने 47.8 प्रतिशत और दिल्ली ने 75.4 प्रतिशत अनुदान का उपयोग किया है।

कोविड-19 के उपचार में आयुष सूत्रीकरण की प्रभावकारिता की आलोचना का जवाब देते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने सालुटोजेनेसिस की अवधारणा के बारे में कहा और यह भी बताया कि किस प्रकार इन औषधियों का लक्ष्‍य भी रोगियों को पूर्णत: संक्रमण से मुक्‍त करना है। उन्होंने कहा कि साइलिको अध्ययन, प्रयोगात्मक अध्ययन और नैदानिक ​​अध्ययनों से उत्पन्न साहित्य और वैज्ञानिक साक्ष्यों के गहन अध्ययन की ओर इशारा करते हुए, उन्होंने कहा, “गुडुची, अश्वगंधा, गुडुची और पिप्पली संयोजन और आयुष 64 में पर्याप्त संख्या में अध्ययन हैं, जो उनकी पर्याप्‍त रोग प्रतिरक्षण, ज्वरनाशक, एंटीवायरल, एंटी-इनफ्लामैटरी आदि गुणों को प्रमाणित करते हैं।” उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा स्थापित इंटरडिसिप्लिनरी टास्क फोर्स की सिफारिशों पर प्रभावित कोविड-19 संक्रमित मामलों के प्रोफिलैक्सिस, माध्यमिक रोकथाम और प्रबंधन में उनके प्रभाव का आकलन करने के लिए उपरोक्त उपायों के साथ वैज्ञानिक अध्ययन शुरू किया गया है।

च्यवनप्राश के लाभों के बारे में, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि नैदानिक ​​अध्ययनों के माध्यम से उपलब्ध जानकारी से पता चला है कि जो व्यक्ति नियमित रूप से च्यवनप्राश का नियमित समय पर सेवन करते हैं, उनमें समग्र स्वास्थ्य की स्थिति और रोग प्रतिरक्षण में सुधार का पता चलता है। चूंकि चीनी इसका एक आवश्यक घटक है, इसलिए ग्राहक बाजार में इसका चीनी मुक्‍त विकल्प चुन सकते हैं।

संडे संवाद के पांचवें एपिसोड को देखने के लिए कृपया निम्‍नलिखित लिंकों पर क्लिक करें।

ट्विटर: https://twitter.com/drharshvardhan/status/1315196225805717505?s=20

फेसबुक: https://www.facebook.com/watch/?v=1045439492574995

यूट्यूब: https://www.youtube.com/watch?v=V8M-ujWIqoA

डीएचवी ऐप: http://app.drharshvardhan.com/download

ShareShare on Google+0Pin on Pinterest0Share on LinkedIn0Share on Reddit0Share on TumblrTweet about this on Twitter0Share on Facebook0Print this pageEmail this to someone

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*


You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>