December 9, 2022

ताला मार्ग में दलदल¸ लगता है जाम, दुर्घटना की आशंका

उमरिया मानपुर- बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान ताला मार्ग जो कि करोड़ो रूपये की लागत से बनाया जा रहा है। बरसात के चलते इस मार्ग पर चलना दूभर हो गया है। उक्त निर्माण कार्य के ठेकेदार द्वारा मनमानी तरीका अख्तियार कर लेनें से बस बस एवं वाहनो का निकलना भी दूभर हो गया है। बताया जाता है कि उक्त रोड की चौंड़ाई अत्यंत कम है और रोड के दोनों तरफ मिट्टी डाल दिये जानें से वाहनों को निकालनें में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है लिहाजा वाहन चालक साइड लेते समय सड़क की दल दल मे फंस रहे है। बरसात के कारण सड़क के एक ओर मिट्टी का दल दल बन गया है जिससे वहीं दुर्घटना की आशंका भी बनी रहती है।
कलेक्टर से की गई थी शिकायत- लगभग 72 करोड़ रूपये से भी ज्यादा की लागत से बन रहे ताला परासी पनपथा मार्ग निर्माण में ठेकेदार द्वारा की जा रही मनमानी व गुणवत्ताविहीन निर्माण कार्य की षिकायत मानपुर नगर के स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता डा0 ब्रजेश द्विवेदी, मो0 खालिक अंसारी एवं वीरेन्द्र प्रभाकर नें कलेक्टर उमरिया सुरेन्द्र उपाध्याय को एक पत्र सौंपकर गुणवत्तायुक्त कार्य करानें एवं ठेकेदार द्वारा की जा रही मनमानी पर लगाम लगाकर कार्यवाही किये जानें की मांग की थी लेकिन लम्बा समय व्यतीत हो जानें के बाद भी प्रषासनिक अधिकारियों नें कोई कार्यवाही नही की। वहीं दिनांक 10/04/2014 को पीजी क्र.269889 में भी मुख्यमंत्री को मामले की शिकायत कर निर्माण कार्य स्टीमेट के अनुसार कराये जानें की मांग की गई थी। ताला उमरिया मार्ग से गुजरनें वाले मार्ग में रोड के किनारे डाली गई मिट्टी में आये दिन जाम की स्थितियां निर्मित होती है वहीं गाड़ियों के दुर्घटनाग्रस्त होनें की आषंका बनी रहती है। गौरतलब होवे कि इसी संकीर्ण रोड में कई वाहन चालक दुर्घटना ग्रस्त होकर गंभीर रूप से घायल हो चुके हैं तो कुछ अपनी जिन्दगी से हाथ धो बैठे लेकिन तमाम परेषानियों के बाद भी प्रषासनिक अधिकारियों नें कोई कार्यवाही नही की।
ठेकेदार की मनमानी का ये भी है कारण- निर्माण ठेकेदारों द्वारा की जा रही मनमानी इस तरह से उभर कर सामनें आई कि जिले का पंगु प्रषासनिक अमला निर्माण कार्यो का लोकार्पण थोक में कराते हैं जिससे लोकार्पणकर्ता को ही होष नही रहता कि जिस कार्य का वो लोकार्पण कर रहे हैं क्या वे वास्तव में गुणवत्तापूर्ण है या पूर्ण हो चुके है जबकि प्रषासनिक अमला अपनी नाकामी छिपानें के लिए दर्जनों निर्माण कार्यो के षिलालेखों को इकठ्ठा कर लोकार्पण कराकर अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ लेते है लिहाजा ठेकेदार अपनी मनमानी पर उतारू हो जाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post डॉक्टरों ने की दबंगई,इलाज मॉगने गये युवक से की मारपीट, जिला अस्पताल पुलिस छावनी मे तब्दील,पुलिस ने किया मामला दर्ज
Next post जांच अधिकारियों नें करा लिये धोखे से हस्ताक्षर, थानें में हुई शिकायत