November 26, 2022

दिल्ली:मंडोली जेल से ऑपरेट हो रहा एक्सटॉर्शन रैकेट, एक हेड वार्डन समेत 5 लोग गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की द्वारका साउथ थाने की पुलिस ने मंडोली जेल के एक हेड वार्डन समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया है, ये हेड वार्डन मंडोली जेल में अपराधियो को एक्सटॉर्शन रैकेट चलाने में उनके ज़रूरत का सामान मुहैया कराता था, इसके साथ ही पुलिस ने मंडोली जेल से ऑपरेट हो रहे एक्सटॉर्शन रैकेट के मास्टरमाइंड नंदू गैंग के सदस्य विकास को भी गिरफ्तार किया है,

दिल्ली पुलिस की द्वारका साउथ थाने की पुलिस ने मंडोली जेल के एक हेड वार्डन समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया है, ये हेड वार्डन मंडोली जेल में अपराधियो को एक्सटॉर्शन रैकेट चलाने में उनके ज़रूरत का सामान मुहैया कराता था, इसके साथ ही पुलिस ने मंडोली जेल से ऑपरेट हो रहे एक्सटॉर्शन रैकेट के मास्टरमाइंड नंदू गैंग के सदस्य विकास को भी गिरफ्तार किया है, विकास अपने गुर्गों के ज़रिए जेल के अंदर मोबाइल और सिम कार्ड प्राप्त करता था जिससे वो बड़े बड़े व्यापारियों को फोन कर उनसे जबरन वसूली करता था, और विकास तक जेल के अंदर मोबाइल और सिम कार्ड पंहुचाने में मंडोली जेल का हेड वार्डन राजेन्द्र उसकी पूरी पूरी मदद करता था, राजेन्द्र का काम मोबाइल और सिम कार्ड खुफिया तरीके से जेल के मेन गेट से अंदर एंट्री कराना था जिसके बाद राजेन्द्र से मोबाइल और सिम कार्ड लेकर विकास तक पहुचाने का काम विकास के गुर्गे हनी राजपाल का था….

दरहसल बीती 22 तारीख को डाबरी के रहने वाले एक शख्स ने द्वारका साउथ थाने में शिकायत दर्ज कराई थी की उसके पास तीन दिन से दो अलग अलग नंबरों से धमकी भरे फोन आर रहे है जिसमें शख्स उनको नंदू गैंग से होने की बात कह रहा है और अपना नाम पीके बक्करवाला बता रहा है और 10 लाख रुपए का इंतज़ाम करने की बात कर रहा है और पैसे ना देने की एवज में जान से मारने की धमकी भी दे रहा है जिसके बाद पुलिस ने शिकायत दर्ज कर जांच शुरू की…

पुलिस ने जांच में पाया कि ये दोनों नंबर मंडोली जेल के आसपास ऑपरेट हो रहे है और जिसमे से एक नंबर जगमोहन और दूसरा प्रमोद नाम के शख्स का है, जिसके बाद पुलिस ने प्रमोद और जगमोहन को दबोचा और पूछताछ में प्रमोद ने बताया कि ये दोनों सिम कार्ड विकास के पास है और वो मंडोली जेल में कैद है,प्रमोद ने ये भी खुलासा किया उसने अपने और अपने चचेरे भाई जगमोहन के नाम से 10 सिम कार्ड विकास को भेजे है….जिससे वो जबरन वसूली के लिए व्यपारियो को फोन करता है….

पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती ये जानना था कि आखिर विकास तक सिम कार्ड पहुचाने में उसकी कौन कौन मदद करता है और इस पूरी चेन में कौन कौन शामिल है, लेकिन प्रमोद से गहन पूछताछ के बाद उसने ये खुलासा किया कि वह बाहर से सिम कार्ड खरीद कर मंडोली जेल के गेट पर हेड वार्डन राजेंद्र को सिम कार्ड थमाता है जिसके बाद हेड वार्डन राजेंद्र सिक्योरिटी चेक से बचते बचाते जेल के अंदर विकास के गुर्गे हनी राजपाल को सिम कार्ड और मोबाइल देता है और फिर हनी राजपाल बैरक के अंदर विकास को सिम कार्ड और मोबाइल दे देता है…. और फिर विकास करता है जबरन वसूली का धंधा….फिलहाल पुलिस ने एक्सटॉर्शन में इस्तेमाल हुए मोबाइल और सिम कार्ड बरामद कर लिए है..

राजीव कुमार तिवारी ( दिल्ली )

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post BSF SEIZED 18.5 KGs OF GANJA
Next post उड़ान 4.0 के तहत 78 नए हवाई मार्गों को मंजूरी