November 26, 2022

दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने गांधी नगर से 12 बाल श्रमिकों को कराया मुक्त

दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग (डीसीपीसीआर) ने शुक्रवार को गांधी नगर से 12 बाल श्रमिकों को मुक्त कराया। डीसीपीसीआर की टीम का नेतृत्व आयोग के एक सदस्य रूप सुदेश विमल कर रहे थे। बच्चे एक कपड़ा कारखाने और साइकिल-मोटरसाइकिल मैकेनिक की दुकानों में काम करते हुए पाए गए। बच्चों ने मास्क नहीं पहन रखे थे और असुरक्षित व अस्वच्छ परिस्थितियों में काम कर रहे थे।

टीमों ने बच्चों को सफलता पूर्वक बचाया और उन्हें मास्क व सैनिटाइजर प्रदान किया गया, श्रम विभाग और ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ एनजीओ की टीमों के साथ मिलकर ऑपरेशन को अंजाम दिया गया।

समाज कल्याण, महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि दिल्ली पुलिस और गैर सरकारी संगठनों के साथ डीसीपीसीआर ने एक सराहनीय काम किया है। मैं सभी को इस तरह के प्रयास के लिए बधाई देता हूं और मुझे विश्वास है कि भविष्य में दिल्ली में बाल श्रम के कदाचार को दूर करने के लिए इस तरह के और भी संयुक्त कार्य किए जाएंगे।

डीसीपीसीआर के अध्यक्ष अनुराग कुंडू ने मुक्त कराए गए बच्चों के पुनर्वास पर बल दिया और कहा कि आयोग 2023 तक दिल्ली को बाल श्रम मुक्त बनाने के लिए एक व्यापक दीर्घकालिक योजना तैयार कर रहा है। उन्होंने लोगों से बाल श्रम के मामलों की निरंतर शिकायत करने का भी अनुरोध किया।

एसडीएम कार्यालय में मुक्त किए गए बच्चों का बयान दर्ज किया जाएगा। इसके बाद मेडिकल परीक्षण होगा, जिसमें कोविड-19 की जांच भी शामिल हैं। इसके बाद, आगे के फैसले के लिए बाल कल्याण समिति के सामने बच्चों को पेश किया जाएगा और कानूनी कार्यवाही का पालन किया जाएगा।

कोविड-19 के प्रकोप और लॉकडाउन के कारण परिवारों की आमदनी पर भारी प्रभाव पड़ा है। यूनिसेफ और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) की संयुक्त रिपोर्ट के अनुसार, बाल श्रमिकों की पहचान करने के लिए 12 जून को विश्व दिवस मनाया जाता है। रोजगार छिनने और बढ़ती गरीबी के कारण ज्यादातर बच्चों को शोषणकारी और खतरनाक नौकरियों की तलाश करने के लिए मजबूर होना पड़ता है, क्योंकि परिवार के लोग अपनी जीविका के लिए कुछ पैसे कमाने का हर संभव प्रयास करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने ‘पौधे लगाओ, पर्यावरण बचाओ’ महा अभियान की शुरूआत की
Next post उ. दि. न. नि. वार्ड -63 में सफाई कर्मचारी कोरोना वॉरियर के किए गए प्रशासनिक कार्य के कृतगयापान “ – तिलक राज कटारिया