October 2, 2022

*दिल्ली सरकार के महिला और बाल विकास विभाग ने सभी जिलों में जिला टास्क फोर्स का किया गठन

दिल्ली सरकार के महिला और बाल विकास विभाग ने सभी जिलों में जिला टास्क फोर्स का गठन किया है। कोविड 19 की वजह से परिवार खोने वाले बच्चों की समस्याओं को दूर किया जाएगा। केजरीवाल सरकार ने महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की समस्याओं को दूर करने के लिए कई प्रभावी कदम उठाए हैं। डब्ल्यूसीडी मंत्री श्री राजेंद्र पाल गौतम ने इस दौरान डब्ल्यूसीडी के आईसीडीएस डिपार्टमेंट के फ्रंटलाइन वॉरियर्स को श्रद्धांजलि दी। राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स एक चाइल्ड केयर का मॉडल बनना चाहिए। हमें हर उस बच्चे की देखभाल के लिए काम करना चाहिए जिन्होंने महामारी में अपने परिवार को खो दिया है।

दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री श्री राजेंद्र पाल गौतम ने शनिवार को डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स का गठन किया। डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स उन बच्चों के लिए काम करेगी जिन्होंने हाल ही में कोरोनावायरस की वजह से अपने परिवार को खो दिया है। बच्चों की सुरक्षा के लिए दिल्ली सरकार सदैव तत्पर रहेगी। कई विभाग इस टास्क फोर्स का हिस्सा होंगे। डिस्ट्रिक्ट डब्ल्यूसीडी ऑफिसर, डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन ऑफिसर, चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के अध्यक्ष, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट, एसडीएम और डीसीपीसीआर की ओर से नामित व्यक्ति इसके सदस्य होंगे।

कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स के गठन को लेकर बैठक की। इस बैठक में जस्टिस राजीव शकधर, डीसीपीसीआर के अध्यक्ष अनुराग कुंडू और डब्ल्यूसीडी सचिव मधु गर्ग ने भाग लिया। इस दौरान कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने टास्क फोर्स को हर समय सतर्क रहने के निर्देश दिए। बच्चों की सुरक्षा के लिए लगन से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया। इस दौरान राजेंद्र पाल गौतम ने सभी एजेंसीज को एक साथ काम करने के लिए भी प्रोत्साहित किया।

राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि कोरोना महामारी की वजह से कई मासूम बच्चों ने अपने माता-पिता और परिवारों को खो दिया है। ऐसी स्थिति में दिल्ली सरकार उनके साथ खड़ी है। हमको यह सुनिश्चित करना है कि ऐसे बच्चों को चाइल्ड वेलफेयर कमिटी के माध्यम से सुरक्षा मिले। उन्होंने जोर दिया कि डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स एक चाइल्ड केयर का मॉडल बनना चाहिए। हमें हर उस बच्चे की सुरक्षा और देखभाल के लिए काम करना चाहिए, जिन्होंने इस महामारी में अपने परिवार को खो दिया है। यह एक मॉडल की तरह काम करना चाहिए। उन्होंने सलाह दी कि हर जिले में एक नशा मुक्ति केंद्र बनना चाहिए।

राजेंद्र पाल गौतम ने इस दौरान डब्ल्यूसीडी के आईसीडीएस डिपार्टमेंट के फ्रंटलाइन वॉरियर्स को श्रद्धांजलि दी, जिन्होंने कोरोना के दौरान अपनी ड्यूटी करते समय जान गंवा दी। राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि इस कठिन परिस्थितियों में भी हमारे आईसीडीएस डिपार्टमेंट के कर्मचारियों ने घर-घर जाकर महिलाओं और बच्चों को राशन दिया। इस दौरान उनको खुद भी करोना हो गया। मैं ऐसे कोरोना वॉरियर्स को सलाम करता हूं।

ShareShare on Google+0Pin on Pinterest0Share on LinkedIn0Share on Reddit0Share on TumblrTweet about this on Twitter0Share on Facebook0Print this pageEmail this to someone

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post TWO AFGHAN REFUGEES SUPPLYING HEROIN ARRESTED BY DELHI POLICE
Next post दिल्ली:होम आइसालेशन में इलाज करा रहे मरीजों को 7 मई को 1100 से अधिक सिलेंडर वितरित किए गए