November 29, 2022

दिल्ली सरकार ने शुरू किया वृद्धावस्था,विधवा,निराश्रित,विकलांग पेंशन लाभार्थियों का घर-घर जाकर सर्वेक्षण

दिल्ली सरकार के समाज कल्याण विभाग ने वृद्धावस्था,विधवा,निराश्रित,विकलांग पेंशन लाभार्थियों की संख्या एवं पेंशन के सत्यापन लिए समूची दिल्ली में सर्वेक्षण शुरू कर दिया है। दिल्ली सरकार की समाज कल्याण, महिला एवं बाल विकास विभाग की प्रधान सचिव सतबीर बेदी ने सभी पेंशन धारियों से सर्वेक्षण की प्रक्रिया में सहयोग करने और सफल बनाने की अपील है। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण के दौरान पेंशन लाभार्थी अपने आधार कार्ड, पहचान पत्र, बैंक पासबुक, विकलांगता प्रमाण पत्र और विधवा पेंशन की लाभार्थी बनने के लिए पति के मृत्यु प्रमाण पत्र और निराश्रितों के लिए निराश्रित होने का प्रमाण पत्र जैसे दस्तावेजों की मूल एवं प्रतिलिपि सर्वेक्षण कार्यकर्ता को जरूर दिखाएं।

बेदी ने पेंशन लाभार्थियों को सलाह दी है कि ऐसे लाभार्थी जिन्होंने अपने निवास स्थान को बदल दिया है वे उसकी जानकारी तुरंत आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को बताकर सरकारी दस्तावेज में दर्ज कराएं अन्यथा उनकी पेंशन बंद कर दी जाएगी।

बेदी ने बताया कि दिल्ली का समाज कल्याण विभाग 60 से 69 वर्ष के 210000 वृद्धों को वृद्धावस्था पेंशन का लाभ दे रहा है। इसके साथ ही साथ 48000 विकलांगों को पेंशन देने के साथ 130000 विधवा व निराश्रितों को भी पेंशन का लाभ दिया जा रहा है। उन्होंने सभी पेंशन लाभार्थियों को सलाह दी है कि वे सर्वेक्षण के दौरान कोई गलत जानकारी न दें। किसी भी गलत जानकारी के लिए वे स्वयं जिम्मेदार होंगे एवं विभाग द्वारा गलत जानकारी उपलब्ध कराने के लिए उनके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि विभाग को ऐसी शिकायतें मिली हैं कि लोग गलत जानकारी देकर पेंशन का लाभ ले रहें हैं। विभाग ऐसे मामलों का पता लगाने के लिए सभी पेंशन लाभार्थियों का सधन सर्वेक्षण कर रहा है।

सतबीर बेदी ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्तियों, विधवाओं तथा शारीरिक रूप से असमर्थ व्यक्तियों को सरकार की ओर से प्रतिमाह पेंशन के रूप में आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। यह सहायता समाज कल्याण विभाग तथा दिल्ली नगर निगम दोनों विभागों की ओर से प्रदान की जाती है। विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि कुछ व्यक्ति समाज कल्याण विभाग तथा दिल्ली नगर निगम दोनों निकायों से पेंशन प्राप्त कर रहे हैं। यह बात भी सामने आयी है कि कुछ व्यक्ति दिल्ली सरकार तथा अन्य विभाग से अवकाश प्राप्त हैं और वहां से पेंशन प्राप्त कर रहे हैं तो भी उनकी पत्नियाँ इन विभागों से पेंशन प्राप्त कर रहे हैं। यह बात न केवल नियमों के विरूद्ध है अपितु इससे सरकार को भारी वित्तीय नुकसान भी हो रहा है। फलस्वरूप योग्य व्यक्तियों को इस प्रकार की सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता है।

बेदी ने कहा कि समाज कल्याण विभाग बेसहारा, गरीब व वरिष्ठ नागरिकों और विकलांग व्यक्तियों के लिए वित्तीय सहायता की योजनाओं को लागू करता है। उन्होंने बताया कि 60 वर्षो से ऊपर के वृद्ध व्यक्तियों, जिनकी सालाना आय 60000 रुपए से अधिक न हो वृद्धावस्था पेंशन लेने के हकदार हैं और वे पेंशन लेने के लिए विभाग के वेबसाइट www.socialwelfare.delhigovt.nic.in से फार्म डाउनलोड कर सकते हैं या संबंधित जिला कार्यालय से सम्पर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post खुदरा MARKET में महंगाई दर में गिरावट , AUGUST में 7.8%
Next post वर्ष 2013-14 में दिल्ली सहकारी आवास वित्त निगम ने कमाया 43.60 करोड़ रुपए का रिकाॅर्ड लाभ