December 7, 2022

दिल्ली से स्टे हरियाणा के बहादुर गढ़ इलाके में दिल्ली के चार युवको के शव जले हुए कार में मिले .

शव इतनी बुरी तरह से जले हुए थे कि पुलिस शिनाख्त भी नहीं कर पाई, बाद में पहुंचे परिजनों द्वारा इनकी पहचान की गई। पुलिस के मुताबिक चारों शवों को हत्या के बाद जलाया गया है। मृतकों को दिल्ली नजफगढ़ के मित्राव व समसपुर गांव का रहने वाला बताया गया। परिजनों ने हत्या के पीछे पुरानी रंजिश बताई है। गौरतलब है कि जिस इलाके में इन शवों को जलाया गया है, वह इसरहेड़ी गांव का सुनसान इलाका है। पुलिस व गांवावालों का अंदेशा है कि इस पूरी घटना को रात के समय अंजाम दिया गया। 2 शवों को गाड़ी की डिक्की व दो को पीछे की सीट पर डालकर जलाया गया था। सुबह जब गांव वालों की नजर कार पर पड़ी तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस को बुलाया गया। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।परिजनों के मुताबिक चारों युवक नया साल मनाने के लिए घर से निकले थे। घर से निकलने के बाद वे अपने एक साथी के यहां रुके, जहां उन्होंने शराब पी। बुधवार 11 बजे के बाद परिजनों का उनसे कोई संपर्क नहीं हो सका। परिजनों ने कईं बार संपर्क साधने की कोशिश की, लेकिन चारों में से किसी का नंबर नहीं मिला। सुबह पुलिस ने उनकी हत्या होने की खबर परिजनों तक पहुंचाई। कार की नंबर प्लेट के आधार पर पुलिस परिजनों तक पहुंची। जले हुए शवों को देखकर पहचान करना असंभव था, लेकिन पुलिस ने कार की नंबर प्लेट से संपर्क साधा तो परिजनों तक इस पूरी घटना की सूचना मिली। जिसके बाद परिजनों ने मौके पर पहुंच कर शव की शिनाख्त की।

परिजनों के मुताबिक इस हत्या के पीछे पुरानी रंजिशें हैं। किसी पुरानी पारिवारिक गैंगवार का मामला बताया जा रहा है, जिसके कारण इन लोगों की हत्या की गई। मृतकों में से एक व्यक्ति कई तरह की आपराधिक मामलों में संलिप्त रहा है। यह लगभग तय है कि शवों को हत्या के बाद ही जलाया गया है, जिससे रंजिश का मामला खुलकर सामने आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post दुर्गा वाहिनी भी उतरी पीके के विरोध में, फिल्म रुकवाई, कल से नहीं चलेगी
Next post दुर्गा वाहिनी भी उतरी फिल्म पीके के विरोध में, फिल्म रुकवाई गई