November 26, 2022

भलस्वा लैंडफिल साइट में प्रतिदिन 45 मेट्रिक टन कूड़े को नष्ट करने की प्रक्रिया जारी है

दिल्ली के भलस्वा लैंडफिल साइट में आज कूड़ा निस्तारण संयंत्र का निरीक्षण करने के लिए भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सांसद मनोज तिवारी और सांसद हंसराज हंस पहुंचे .जहां उन्होंने लैंडफिल साइट में चल रही मशीनों का निरीक्षण किया .साथ ही साथ लैंडफिल साइट के ऊपर जाकर दौरा भी किया इस दौरान कई अधिकारी भी साथ रहे. जिनसे उन्होंने काम की गति को लेकर भी चर्चा करी. साथ ही जनता को आश्वासन दिलाया कि जल्द से जल्द दिल्ली के चेहरे पर लगे हुए इस बदन में दाग को हटाकर खूबसूरत जगह पर तब्दील कर आ जाएगा .जिसके लिए लगातार काम चल रहा है.

भलस्वा लैंडफिल साइट पहले भी कई बार सुर्खियों में रहा है यहां से निकलने वाला प्रदूषण आसपास की कई कालोनियों को दूषित करता है और कई खतरनाक बीमारियां भी इसी वजह से यहां पर बढ़ती जा रही है इस लैंडफिल साइट को खत्म करने के लिए पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी और सांसद हंसराज हंस ने एक पहल करें जिसमें शुरुआती दौर में 4 कूड़ा निस्तारण मशीन लगाई गई जिससे यहां पर लगातार बड़ी संख्या में कूड़ा खत्म किया जा रहा है . उम्मीद लगाई जा रही है कि जल्द से जल्द कूड़े का यह पहाड़ कम हो जाएगा और इसको बहुत ही जल्द कूड़े के गंदगी की जगह पर एक खूबसूरत जगह पर तब्दील कर दिया जाएगा.

हर रोज 45 मेट्रिक टन कूड़ा नष्ट किया जा रहा है

जानकारी के अनुसार भलस्वा लैंडफिल साइट में प्रतिदिन 45 मेट्रिक टन कूड़े को नष्ट करने की प्रक्रिया जारी है यहां शुरुआती दौर में चार मशीनें लगाई गई थी दिन से कूड़ा नष्ट किया जा रहा था लेकिन अब इन मशीनों की संख्या को बढ़ा दिया गया है वैसे अभी भी यहां हर रोज 15 मीट्रिक टन कूड़ा डाला जा रहा है और औसतन अगर बात की जाए तो तीन हजार मैट्रिक टन कूड़ा प्रतिदिन यहां से खत्म हो रहा है और उम्मीद लगाई जा रही है कि इस प्रतिदिन तीन हजार मीट्रिक टन उसे ही जल्द स्कूल के पहाड़ को खत्म किया जा सकता है.

भलस्वा लैंडफिल साइड को खत्म करने की कोशिश है कई सालों से चल रही है लेकिन आखिरकार अब जाकर यहां इस और कुछ काम भी किया जा रहा है . देखना होगा कि आखिरकार यह काम कब तक रंग लाता है और इस जगह की तस्वीर कब बदलती है जिससे इस पूरे भलस्वा लैंडफिल साइट के चारों तरफ रहने वाले लोगों को भी राहत मिलेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post कार्य स्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीडन की रोकथाम के लिए 5 सदस्यीय समिति बनाई जाएगी- राजेंद्र पाल गौतम
Next post सौठ एवं लहसुन प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में विशेष कारगर