December 9, 2022

रैन बसेरों में कोई खामी मिलती है तो लोग सीधे राज निवास को सूचित कर सकते हैं

दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने 17 दिसम्बर को राजनिवास में दिल्ली में रैन बसेरों के संबंध में एक समीक्षा बैठक की। इस बैठक में मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, वित, सचिव, शहरी विकास, सचिव, लोक निर्माण विभाग, सचिव, स्वास्थ्य, सचिव, समाज कल्याण, दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, दिल्ली जल बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी,, तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

इस समय 219 रैन बसेरे स्थायी भवनों, पोर्टा केबिन, अस्थायी टेन्ट तथा सामुदायिक हाॅल में चलाए जा रहे हैं। जिनमें 15 हजार लोग रह रहे हैं। उपराज्यपाल महोदय ने लोगों, गैर सरकारी संगठनों तथा दयालु लोगों से अपील की कि वह खुले में सोने वाले लोगों को इन सुविधाओं के प्रयोग के लिए प्रोत्साहित करें। उन्होंने इच्छुक लोगों से दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड से संपर्क करने को भी कहा।

उपराज्यपाल ने यह भी कहा कि सरकार के बेहतर प्रयासों के बावजूद भी यदि रैन बसेरों में किसी प्रकार की अव्यवस्था,खामी आदि पाई जाए तो कोई भी नागरिक राज निवास में उपराज्यपाल शिकायत प्रकोष्ठ में 155355 के माध्यम से सीधे शिकायत दर्ज करा सकते हैं और इसके अतिरिक्त 23975555, 23976666, 23978888 और 23994444 पर फोन भी कर सकते हैं तथा www.listeningpostdelhilg.inपर लाॅग इन कर lggc.delhi@nic.in पर मेल भी कर सकते हैं।

रैन बसेरों से संबंधित 28 नवम्बर को राज निवास में एक बैठक हुई थी जिसके अनुसरण में दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने 12, 13 एवं 14 दिसम्बर की रात को दिल्ली के रैन बसेरों का निरीक्षण किया।

उपराज्यपाल ने निरीक्षण रिपोर्ट की समीक्षा करते हुए रैन बसेरों की हालत को सुधारने के लिए विभिन्न विभागों को निम्नलिखित निर्देश देते हुए उन्हें प्रभाव से क्रियान्वयन करने को भी कहा।

1. दिल्ली सरकार के सचिव और वरिष्ठ अधिकारी तथा सभी उपायुक्त प्रत्येक सप्ताह रैन बसेरों का निरीक्षण करेगें। यह निरीक्षण दिसम्बर और जनवरी के पूरे महीने चालू रहेगा और इस निरीक्षण की रिपोर्ट की समीक्षा प्रत्येक 10 दिन के भीतर राज निवास में की जाएगी।

2. दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड को निर्देश दिए गए कि वह प्रत्येक रैन बसेरों में समुचित मात्रा में बिजली उपलब्ध कराना सुनिश्चित करे ।

3. दिल्ली जल बोर्ड को निर्देश दिए गए कि रैन बसेरों में 800 लीटर पानी प्रतिदिन के हिसाब से उपलब्ध कराये। दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड को जहां पर ज्यादा जरूरत है वहां पर पानी की क्षमता बढ़ाने के लिए कहा गया। दिल्ली जल बोर्ड ने बताया कि 130 रैन बसेंरों में वाटर टैंकरों के द्वारा पानी पहुंचाया जा रहा है। तथा 79 रैन बसेरों में पानी की आपूर्ति पाईप लाईन से की जा रही है। उपराज्यपाल महोदय ने दिल्ली जल बोर्ड को निर्देश दिए कि वह रैन बसेरों में पानी की सुविधा का निरीक्षण करें और इससे संबंधित अपनी रिपोर्ट तुरंत प्रस्तुत करे।

4. दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड को निर्देश दिए गए कि वह शौचालयों की साफ-सफाई सुनिश्चित करे और शौचालयों के निरीक्षण के संबंध में रोस्टर बनाए। उपराज्यपाल ने दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड को निर्देश दिए कि वे रैन बसेंरो में सफाईकर्मियों की संख्या को दोगुना कर दें।

5. स्वास्थ्य सचिव को निर्देश दिए गए कि वह रैन बसेरों में डाॅक्टर और चल चिकित्सालयों की समयबद्ध उपस्थिति का निरीक्षण करें। पूरी दवाईयों के साथ चल चिकित्सालय रैन बसेरों में सप्ताह में दो बार जरूर जाए।

दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने उपराज्यपाल को निम्न व्यवस्थाओं के संबंध में, जो पूरी कर ली गई हैं, के बारे में भी बताया।

1. रैन बसेरों में कम्बल और दरी की समुचित व्यवस्था। उपलब्ध कम्बलों के अतिरिक्त चालीस हजार नए कम्बल खरीद लिए गए हैं।

2. रैन बसेरों में रहनेवालों को सुबह चाय और रस दिए जा रहे हैं।

3. रैन बसेरों से संबंधित फीडबैक तथा शिकायत आदि प्राप्त करने के लिए 15 दिसम्बर से 24ग7 चलने वाला नियंत्रण कक्ष पूरी तरह चालू हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post Launch of ‘2004 Tsunami disaster story’ on its 10th anniversary
Next post INDIAN RAILWAYS IDENTIFIES EIGHT STATIONS FOR PROVISON OF ‘RO’ DRINKING WATER UNITS ON EXPERIMENTAL BASIS