December 2, 2022

सरकार ने दिल्ली वासियों को भूकंप जैसी आपदा से बचाने के लिए जागरूकता अभियान शुरू किया- अरविंद केजरीवाल

दिल्ली सरकार ने भूकंप से बचने के लिए दिल्ली निवासियों को जागरूक करने के लिए अभियान की शुरूआत की है। इस अभियान के दौरान दिल्ली निवासियों को भूकंप आने की दशा में बचाव और ऐहतियात बरने के संबंध में जागरूक किया जा रहा है। दिल्ली में अप्रैल से अब तक करीब 18 बार में भूकंप के झटके आ चुके हैं। हालांकि इसकी तीव्रता ज्यादा नहीं थी, इसलिए किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ। फिर भी दिल्ली सरकार ने दिल्ली निवासियों को भूकंप आने की दशा में खुद को और परिवार को सुरक्षित रखने के प्रति जागरूक कर रही है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बीते कुछ हफ्तों ने हमें जागरूकता, तैयारियां और अलर्ट रहते हुए समय पर कार्रवाई का जीवन में महत्व सिखाया है। इसीलिए सरकार, भूकंप जैसी आपदा के प्रति दिल्ली वासियों को तैयार करने के लिए एक नया अभियान शुरु कर रही है। अप्रैल 2020 से दिल्ली और उसके आसपास भूकंप के करीब 18 हल्के झटके आ चुके हैं। इनमें से दो बार रिक्टर पैमाने पर 4 या उससे अधिक की तीव्रता दर्ज की गई है। ऐसे में आपके मुख्यमंत्री के रूप में मेरी यह जिम्मेदारी है कि किसी भी संकट के लिए दिल्ली को हमेशा तैयार और जागरूक रखूं। मेरे सिद्धांत बिल्कुल स्पष्ट हैं, आने वाले कल में दिल्ली वासियों के जीवन को सुरक्षित रखने के लिए तैयारी आज से ही शुरू करनी है।

*भूकंप के पहले क्या करना चाहिए-*
– अपने घर और काम करने वाली जगह की मजबूती की जांच करवाएं।
– अगर जरूरत पड़े तो स्ट्रक्चरल इंजीनियर से सलाह लें और दरार व
अन्य खािमयों को सही करवाएं।
– जांच कर लें कि आपके घर या ऑफिस के सभी फर्निचर जमीन, दीवार व छत से मजबूती के साथ सटे हों या बंधे हों। पहियों वाले फर्निचर व
कोई स्टोरेज उपकरण आदि जमीन पर जहाॅं रखें हों, वहॉं वो अच्छे
तरीके से लॉक किए गए हों।

– अपने सभी जरूरी महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे पासपोर्ट, राशन कार्ड, आधार
कार्ड, प्रिस्क्रिप्शन, मेडिकल रिकॉड्र्स आदि को स्कैन करके ऑनलाइन
या अपने ईमेल एड्रेस पर सुरिक्षत रख लें।
– यह सुिनश्चित करें कि आपके घर के लोगों खासकर बच्चे व ऑफिस
के कर्मिर्यों को आपदा प्रबंधन हेल्पलाइन, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, दिल्ली सरकार, 1077 के बारे में पता रहे। इस नंबर को अपने मोबाइल में सेव कर लें और सही जगह पर इसे लगा भी दें।

– भूकंप का बेहतर सामना करने के लिए खुद को और दूसरों को ड्रॉप कवर-होल्ड तकनीक सिखाएं।
—-

*भूकंप के बाद क्या करना चाहिए*

– भूकंप के बाद के झटकों से सावधान व सचेत रहें।

– खड़िकयों, ऊंची इमारतों और दूसरे ढ़ाचों से दूरी बनाए रखें।

– अपनी जगह छोड़ने से पहले खुद व परिवार वालों को देख लें कि कहीं चोट तो नहीं आई है। अगर किसी को सिर या गदर्न पर चोट आई हो, तो जगह छोड़ने से पहले पूरी सावधानी
बरतें। अगर कोई शंका हो, तो अपनी जगह पर बने रहें।

– अगर आप किसी बहुमंजिला इमारत में हैं, तो उतरने के लिए हमेशा सीढ़ियों का इस्तेमाल करें।

– अगर आप कहीं फंसे हैं या सुनसान जगह पर हैं, तो अपनी ऊर्जा बचाएं रखें और मोबाइल व बैटरी से चलने वाले दूसरे उपकरण का कम से कम इस्तेमाल करें।

– अगर आप फंसे हैं, तो खुद आवाज लगाने की जगह आसपास की चीजों से आवाज करने का प्रयास करें।
——-

*आपातकालीन किट तैयार रखें-*

-टॉच, पाॅवर बैंक व चार्जिंग कंबल, जरूरी दवाइयां, एलर्जी की बीमारी से सम्बंधित जानकारी, थोड़ा बहुत कैश, जरूरी पहचान पत्रों की फोटो कॉपी, अपने ब्लड ग्रुप की जानकारी व एलर्जी संबंधित जानकारी, फस्र्ट ऐड किट, पानी की बोतल आदि।
—–

*अगर आप आपदा वाली जगह फंस गए हों, तो ऐसा करें-*

– यदि अंदर हैं तो, ड्रॉप-कवर-होल्ड का अभ्यास करें। किसी मजबूत मेज या बेड के नीचे चले जाएं। एक हाथ अपने सिर पर रखकर उसे सुरिक्षत करें और दूसरे हाथ से फर्निचर को थाम लें। खिड़कियों, बुककेस, बुकशेल्फ, बड़े आकार के शीशे, लटकते हुए पौधे, पंखे और दूसरी भारी चीजों से दूर रहें। भूकंप के झटके रुकने तक अपने आपको इन चीजों से बचाए रखें। जब झटके रुक जाएं, तो अपने घर या स्कूल की इमारत से बाहर निकल कर खुले मैदान की ओर जाएं। दूसरों को धक्का ना दें।

– यदि आप बाहर हैं तो, खुली जगह पर जाएं और पेड़, साइन बोर्ड, बिल्डिंग, बिजली के तार व खंभों से दूर रहें।

-ऊंची इमारत में हैं तो, बाहरी दीवार से तुरंत दूर हट जाएं और अपना सिर बचाएं। अगर आपके पास हेल्मेट हो तो उसे पहन लें। लिफ्ट का इस्तेमाल न करें और खिड़िकयों से दूर रहें।

– ड्राइविंग कर रहे हैं, तो गाड़ी को सड़क के किनारे रोक कर इंजन को बंद कर दें। फ्लाई ओवर, पाॅवर लाइन व विज्ञापन बोर्ड से दूर रहें। कार से बाहर निकलकर उसके साइड में नीचे लेट जाएं। किसी भी स्थित में कार के अंदर न रहें।

– किसी स्टेडियम, ऑडिटोरियम या थियेटर में हैं तो, अंदर रहें और बाहर की ओर दौड़कर भागने की कोशिश न करें। अपनी कुर्सी पर रहें और अपने हाथों से सिर को ढंक लें। भूकंप के झटके रुकने तक शांत रहें। उसके बाद सही तरीके से वहां से बाहर निकलें। बच्चों, बुजुर्ग व दिव्यांगों को पहले निकलने दें। परेशान न हों।

-झटके रूक जाने के बाद, सुिनश्चित करें लें कि कहीं चोट तो नहीं आई है। सबसे पहले खुद को देखें, फिर दूसरों की मदद करें। शांत रहें और अपना आत्म-विश्वास बनाए रखें। जो संकट में हैं, उनकी मदद करें। आग की जांच करें व जरूरत पड़ने पर फायर सर्विस 101 या पुिलस कंट्रोल रूम 100 या आपदा प्रबंधन हेल्पलाइन 1077 पर कॉल करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post दिल्ली में कोविड की स्थिति में सुधार व होटलों में खाली पड़े बेड को देखते हुए होटलों में बने कोविड केयर सेंटरों को डी-लिंक किया जा रहा- अरविंद केजरीवाल
Next post बाल भारती स्कूल के अभीभावक ने स्कूल फीस का दबाव बनाने वाले स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की