November 26, 2022

65 फर्जी डीलरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हुई, 2777.73 करोड़ रुपए की फर्जी कारोबार दिखाया, पंजीकरण प्रमाण पत्र किए गए रद्द :दिल्ली सरकार

फर्जी डीलरों और कर की चोरी करने वाले व्यापारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए दिल्ली सरकार के व्यापार एवं कर विभाग ने व्यापक अभियान चला रखा है। व्यापार एवं कर विभाग के आयुक्त अमित यादव ने बताया कि विभाग ने छापामार दस्ते बनाकर दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों में कर की चोरी करने वाले व्यापारियों और फर्मों का पता लगाने और कार्रवाई करने के लिए भेजे। प्रवर्तन शाखा के अधिकारियों को शामिल कर बनाई गई विभिन्न निरीक्षण टीमों नेे पूरे शहर में छापेमारी कर करचोरों और फर्जी डीलरों का पता लगाया।

यादव ने बताया कि फर्जी डीलरों और करचोरी करने वालों की संख्या में पिछले कई वर्षो से लगातार बढ़ी है जो चिंता का विषय है। वैट प्रणाली के अंतर्गत फर्जी डीलर्स(गलत साख पर पंजीकरण लेना और फिर गायब हो जाना) से नकली चालान लेकर वास्तविक डीलर इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा करने जैसे मुद्दे के खिलाफ वैट विभाग ने फर्जी डीलरों पर फंदा कसना शुरू कर दिया है।

यादव ने बताया कि विभाग कर की वसूली सुनिश्चित करने और धोखाधड़ी करने वाले व्यापारियों और कर चोरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि 65 फर्जी डीलर जो वर्ष 2013-14 में 2777.73 करोड़ का फर्जी कारोबार कर रहे थे, उनके पंजीकरण प्रमाण पत्र रद्द कर दिये गये हैं। साथ ही साथ इस हफ्ते उनके द्वारा दर्शाए गए इनपुट टैक्स क्रेडिट 9.74 करोड़ रुपए को भी अस्वीकृत कर दिये गए है। आयुक्त ने ऐसे डीलरों की श्रृखंला का पता लगाने के लिए निर्देश दिए और दिल्ली वैट अधिनियम 2004 के प्रावधान के अनुसार सख्त कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए है।

यादव ने स्पष्ट किया कि धोखाधड़ी करने वाले व्यापारियों, फर्जी व्यापारियों, फर्जी फर्मों और करचोरों के विरूद्ध सरकार अपना अभियान जारी रखेगी और नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यापारियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Previous post धोखाधड़ी करने वाले डीलरों को बख़्शा नहीं जाएगा, छापे जारी रहेंगे – अमित यादव: दिल्ली सरकार
Next post बिजली के लिए फिर सड़क पर उतरे लोग